Gharelu Upaye

 पथरी या गुर्दे के दर्द में

Pathri par ya gurde mai dard hona bhot takleef deta hai. Jin logo ko parhti hoti hai unke liye bhot se khane ki cheese mana hoti hai jisse paishab mai jalan kam ho. Agar apko pathri ya gurde mai dard ka raamband ilaj karna hai to hap niche diye hue ilaj ko apna kar isse turant chutkara paa sakte hai.

Upaye:

“रेड़ी के बीज छीलकर लाल भून लें सुबह शाम 1-1 बीज कच्चे दूध के साथ खाने पर दर्द दूर होता है।“

 हाइड्रोसील (अण्ड-वृद्धि)

Umar ke sath sath apko kai bimario ka pata chalta hai jo ki sahi samey par pata lagna jaruri hia jisse ki hum uska sahi tarike se ilaj karwa sake. Aand vridhi aek badi pareshani hai jiska ilaj karna sambhav hai wo bhi ghar baithe huye.

Iska sahi ilaj karne ke liye apko diye hue upaye ko apnana padega jisse apko is bimari se rahat mil sake.

Upaye:

“छोटी इन्द्रायण की जड़ अरण्ड की जड़ पीसकर उसमें असली सी का तेल मिलाकर लेप करें तथा इंद्रायण का चूर्ण दूध के साथ पंद्रह दिन तक सेवन करने से अण्ड-वृद्धि रोग अवश्य ठीक हो जात है अथवा बच और सरसों पानी में पीसकर अण्ड-बृद्धि पर लेप करें।“

फायलेरिया

Kuch logo nai hi is bimari ka suna hoga lekin ye bimar aksar apke aas par kisi na kisi vyakti ko jarur hogi. Agar ap iska raamband ilaj karna chahte hai toh apko iske liye humare diye hue upaye ko apnana hoga aur apko is upaye se turant labh hoga.

Upaye:

“एक पाव छोटी हरें पीसकर 35 ग्राम गौ मूत्र से दो तीन माह लगातार सेवन करें। फाइलेरिया रोग संमल नष्ट हो जायेगा। अथवा हाथ पैर में पानी उतरने पर उस जगह अल में लाल मिया पीसकर लेप करना चाहिए। यद्यपि इससे जलन अत्यधिक होती है और वहाँ का चमडा लाल होता है किन्तु बहुत लाभ होता है।“

हार्निया (आंत उतरना)

Ap logo nai is bimari ke bare mai aksar suna hoga ki logo ki aat utar gai, ya harniya ke bare mai. Agar kabhi bhi apko is bimari se guzarna pade to hap iska ilaj ghar baithe kar sakte hai wo bhi bina kisi pareshani ke. Iske ilaj ke liye apko diye huye upaye ko dhangse karna hoga.

Upaye:

“बार-बार कॉफी पीने से और हार्निया वाले स्थान को गर्म जल में काफी डालकर उस जल से धोने से हार्निया के गुब्बारे की वायु निकलकर ‘फलाव ठीक हो जाता है। प्रत्य के मुंह के पास पहुंची हुई हर्निया की अवस्था में लाभ होता है। अत्यधिक काफी भी शरीर के लिए हानिक हैं। इसलिए इसका सही समय पर ही प्रयोग लायक होता है। अथवा होमियोपैथिक औषधि नक्स वोमिका 30 की चार खुराक नित्य 21 दिन तक लगाने से हार्निया के सभी दुष्प्राय दूर हो जाते हैं और रोगी राहत की साँस लेने लग जाता है।“

ज्वर (बुखार आने पर)

Jwar aek prakar ka bukhar hota hai, jisme insane ko faki mushkil hoti hai aur shari dard se bhara rehta hai. Iska upaye bhot hi asan hai aur koi bhi bina Kisi doctor ki madad se kar sakta hai. Agar apko kabhi jwar jyesi bimari ka samna karna pad jaye toh niche diye hue upaye ko hamesha yaad rakhna.

Upaye:

“नींबू का रस, नमक व काली मिर्च डालकर गरम कर चूसने से बुखार ठीक हो जात हैं। दिन में तीन चार बार चूसना चाहिए। यह कुनैन की तरह असर करता है।“

मियादी बुखार

Miyadi bukhar bhi bhot hi pareshani bhara hota hia. Ap kuch karne ki icha rakhte ho lekin ap koi bhi kaam nahi kar pate. Ye bukhar kafi dino tak rehta hai aur apko bhot pareshani maid al sakta hai agar ap iska turant ilaj na kare toh.

Upaye:

“नींबू के रस को पानी में डालकर कुछ दिन पीने से मियादी बुखार टायफाइड) के दुबारा होने का भय या उसका असर नहीं होता। इस बुखार के होने के बाद इसका असर सिर, फेफड़ा और आंत पर होता है।“

नजला, जुकाम

Najla jhukaam jab bhi hota hai toh hafte bhar se pehle jata nahi. Us dauran apke sar mai bhi dard hota hai aur sharir tut sa jata hai aur ap kuch kaam karne ke kabil nahi hote hai. Iska gharelu ilaj bhot hi asan hai, agar kabhi apko najla hojaye to hap ap diye hue upaye ko jarur azmaye.

Upaye:

“आधा कप उबलते पानी में 3-4 लौंग और थोड़ा सा नमक डालकर छानकर पीथे, नजला, जुकाम ठीक हो जाता है। अथवः स५ के जुकाम में अदरक के रस में मध मिलाकर चाटें।“

मलेरिया ज्वर

Maleriya bimari mai insaan ko kafi thand lagti hai aur wo thand se kapne lagta hai. Agar apko is dauran gharelu ilaj karna hai to ap isse kafi rahat paa sakte hai wo bhi ghar par upaye karke.

Upaye:

मलेरिया में सख्त सर्दी और कम्पन रोकने के लिए छिले हुए लहसुन की 2-3 फाँक धी में तलकर रोगी को खिलायें। अथवा भुनी हुई फिटकिरी दो गुना खाँड़ में मिलाकर एक माशा ज्वर के चढ़ने से 3 घण्टे पूर्व पानी के साथ खिलायें।“

 चेचक

Chechak ke dane ho jane par, manushya ko pure sharir mai dane ho jate hai. Is bimari mai us insane ko uthne mai, letne mai, sone mai ya chalne mai bhot pareshani hoti hai. Aur ye bhi humne suna hai insaan ko aek bar zindagi mai yeh bimari zarur hoti hai.. Agar apko ya apke kisi janne wale ko is bimari se jhunjna padraha hai to hap iska ilaj badi asani se kar sakte hai.

Upaye:

“मुनक्का आठ दानों बीज निकालकर 1 रती केसर के साथ पीसकर खिलाने से चेचक में कोई तकलीफ नहीं होती है और रोगी जल्द स्वस्थ्य हो जाता है।“

चेचक की गर्मी

Chaichak ke dauran shari mai garmi bhad jati hai, jis karan insane ko ghbarahat hone lagti hai. Agar apko chaichak ke dauran sharir mai garmi jyada mehsus ho to hap us upaye ko karke turant rahat paa sakte hai.

Upaye:

“ चेचक की गर्मी को शाँत करने के लिए मिट्टी के कोरे बर्तन में समान मात्रा में धनिया व जीरा को मिलाकर रात में भिगोकर रख दें। प्रातः काल मिश्री मिलाकर रोगी को पिलायें इससे शौच साफ होता है और गर्मी शांत हो जाती है।“

diabetes causes and treatment